Followers

about

about
ABOUT US Welcome to the Sarkari Yojana Alert (www.sarkariyojanaalert.com), Job, tech news portal, which is the website of Hindi/English government schemes. Friends, this website is dedicated to those wishing for a government scheme! Through this website, you will get detailed information about the schemes being released by Prime Minister Narendra Modi and other state chief ministers. Our aim is to give the list of schemes running and started (Sarkari Yojana) in all the states of the country.

Follow by Email

PMYOJANA 2020

Total Pageviews

Popular Posts

Blog Archive

SEARCH POST /SCHEME NAME

National Culture Festival | राष्ट्रीय सांस्कृति महोत्सव

राष्ट्रीय सांस्कृति महोत्सव, National Culture Festival
Share it:
राष्ट्रीय सांस्कृति महोत्सव

राष्ट्रीय सांस्कृति महोत्सव

इस योजना की शुरूआत सांस्कृति मंत्रालय के द्वारा शुरू किया गया था। जिसको मध्य प्रदेश में राष्ट्रीय सांस्कृति महोत्सव का नाम दिया। इसका गठन 14 अक्टूबर 2019 को हुआ था। 
जिसको हर एक श्रेष्ट भारत का हिस्सा दिया गया। इस महोत्सव को भारतीय सांस्कृति समृद्ध विरासत को प्रदर्शित करता है। इस महोत्सव में चित्रकला, मूर्तिकला, लोककला, हस्तशिल्प इत्यादि शामिल हैं। इन महोत्सव में विभिन्न राष्ट्रय तथा केन्द्र शामिल हैं।
 जिसका उद्यैष्य सांस्कृति समाज को बढावा देना है और देश को एकता व अखंडता को मजबूत बनाना है। राष्ट्रीय सांस्कृति महोत्सव को विविधता भारी सांस्कृति में बढ़ाने का प्रयास कर रहे हैं। इस कला में सम्पूर्ण भारत के दर्शन हो रहे है जिसके चलते राजपाल लालजी टंडन ने महाकौशल को आयोजित दशवें राष्ट्रीय सांस्कृति महोत्सव में किया। 
उसने कहा कि विश्व में केवल भारत एकमात्र देश है जिन्होंने सांस्कृति महोत्सव को बचाये रखे हैं। इसी कारण भारत देश विश्व गुरू के रूप में पहचाने जाते हैं। इसी कारण केन्द्र संस्कृति पर्यटन मंत्री प्रह्लाद पटेल सिंह ने कहा कि राष्ट्रीय सांस्कृति महोत्सव को आयोजित होने से सही सार्थकता सिद्ध हुई है। 
देश की विविधता भारी राष्ट्रीय सांस्कृति महोत्सव को हर क्षेत्र में पहचान मिलेगी। इसके बावजूद शहरों का चयन भी किया जायेगा। इसके साथ मंच पर केवल राष्ट्रीय या अन्तराष्ट्रीय कलाकारों को मौका दिया जायेगा और इसके बावजूद प्रदेशों के क्षेत्रिय कलाकारों को भी इस राष्ट्रीय सांस्कृति महोत्सव में पहचान दिया जायेगा।

राष्ट्रीय सांस्कृति महोत्सव का उद्यैष्य

  • इस महोत्सव का उद्यैष्य देश में सांस्कृति सभ्यता को सम्मान दिलाना। इसके बदोलत देश के सभी कलाकारों, चित्रकारों और लोककला इत्यादि जैसे सांस्कृति सामंजस्य बढ़ाने का अनुठा प्रयास करेगी।
  • इस कला संगम में सम्पूर्ण भारत के दर्शन हो रहे हैं जिसके चलते तमाम विपरित परिस्थिति के बावजूद भी देश अपनी संस्कृति को बचाये रखें हैं।
  • राष्ट्रीय संस्कृति महोत्सव को केवल भारत ही एक ऐसा देश है जिन्होंने इस संस्कृति महोत्सव को बचाये रखे हैं। इसी कारण भारत को विश्व गुरू के नाम से भी पहचाने जाते हैं।
  •  इसके तहत् देश की विविधता को भी राष्ट्रीय संस्कृति महोत्सव को भी हर क्षेत्र में पहचान मिलेगी। इसके चलते शहरों का भी चयन किया जायेगा। इसी लिए इस महोत्सव की शुरूआत 14 अक्टूबर 2019 का हुआ था।

 राष्ट्रीय संस्कृति महोत्सव से लाभ


  • इस महोत्सव से लाभ यही होगा कि सभी लोगों को संस्कृति सभ्यता का सम्मान मिलेगा।
  • इसके कला संगम में भारत देश के सम्पूर्ण कलाकारों का प्रदर्शन किया जायेगा जिसके चलते तमाम विपरित परिस्थितियों के बावजूद देश अपने संस्कृति को बचाये रखे।
  • संस्कृति मंत्रालय के प्रमुख त्योंहारों के रूप में 2015 में राष्ट्रीय संस्कृति महोत्सव की संकल्पना की। 2015 में प्रथम राष्ट्रीय संस्कृति महोत्सव की भारी सफलता के बाद संस्कृति मंत्रालय ने देश में समृद्ध संस्कृति को विरासत के रूप में सफल बनाये हैं।
  • इस योजना के तहत् सभी कलाशैली, विश्वकला, चित्रकला और मूर्तिकला इत्यादि जैसे हास्ताशिल्प भी शामिल हैं। इसके बावजूद हमारे देश की इसी कलाकारों के चलते देश को विश्व गुरू के नाम से भी जाना जाता है। इसके साथ ही मंच पर राष्ट्रीय एवं अन्तराष्ट्रीय कलाकारों को भी मौका दिया जाता है।
Share it:

CENTRALSCHEME

PMYOJANA2020

Post A Comment:

0 comments: